Breaking News

शासन ने दिया दलितों को पट्टा, दबंगों ने जमाया कब्जा

reporter 2018-07-31 337
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • सीहोर कलेक्ट्रेट में आए पीडित दलित परिवार।

    सीहोर। केन्द्र व राज्य सरकारें गरीब, आदिवासी दलित व पिछडे तबकों के उत्थान के लिए अनेकों योजनाएं संचालित कर उनके जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए प्रयासरत हैं तो वहीं गरीब और शोषित वर्ग तक इन योजनाओं लाभ कम ही पहुंचता है। ऐसा ही एक मामला सीएम शिवराज ङ्क्षसह चौहान के गृह जिले सीहोर की इछावर तहसील के गांव कालापीपल जागीर का प्रकाश में आया है जहां वर्ष 2002 में दर्जनों दलित परिवारों को शासन द्वारा जीवन यापन के लिए जमीन पट्टे वितरित किए गए थे। लेकिन गांव के ही दबंग और राजनीतिक रसूखदार लोग गरीबों की जमीनों पर काबिज हो गए। शिकायतों के बाद भी दबंग दलितों की जमीनों से कब्जा छोडने को तैयार नहीं बल्कि आए दिन दलित परिवारों के साथ मारपीट करते हैं और धमकिया देते हैं। मंगलवार को भारतीय किसान मोर्चा के नेतृत्व में पीडि़त परिवारों ने कलेक्टे्रट पहुंचकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंप अपनी व्यथा सुनाई। जिनका कहना था कि शासन ने तो हमें पट्टा दिया है लेकिन गांव दबंग जमीन का उपयोग नहीं करने देते जिसके कारण मजबूरी में रोजी रोटी के लिए अन्य गांव या शहरों में जाना पड़ता है। पीडित ग्रामीणों ने बताया कि विगत 16 वर्षों से दबंगों ने उनकी जमीनों पर कब्जा कर रखा है। जिसकी शिकायतें कई दफा की गई लेकिन अधिकारी उन्हें न्याय दिलानें में अक्षम रहे हैं। भारतीय किसान मोर्चा कार्यकर्ताओं और पीडि़त परिवारों ने प्रशासन को ज्ञापन सौंप चेताया कि यदि तीन दिवस में उनको कब्जा नहीं दिलाया गया तो सभी परिवार कलेक्ट्रेट में भूख हडताल करेंगे।
    हक से महरुम हैं यह परिवार--
    शासकीय पट्टा मिलने के बाद भी गेदालाल, प्रेमनारायण,सुनिता बाई, मनोहर, इमरतलाल, रमेश, जालम सिंह, नर्मदाप्रसाद, जशोदा, बनब सिंह की जमीन पर गांव के ही दबंगों ने विगत 16 वर्षों से कब्जा जमा रखा है। कलेक्टर तरुण कुमार पिथोडे ने ग्रामीणों को आश्वासन दिया है कि मामले की जांच कर न्याय दिलाया जाएगा।
    .

    Similar Post You May Like